Zindagi Shayari



zindagi shayad isi ka naam hai,
duriyaa, majburiyaa, tanhaeiyaa.

ज़िन्दगी शायद इसी का नाम हैं,
दूरियाँ, मज़बूरियां, तन्हाईयाँ 


jo guzaari na ja saki hum se,
hum ne vo zindagi guzari hai.

जो गुज़ारी ना जा सकी हम से,
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी हैं।


zindag bhar ke liye ruth ke jaane vaale,
mai abhi tak teri tasvir liye baitha hu.

ज़िंदगी भर के लिए रूठ के जाने वाले,
मैं अभी तक तेरी तस्वीर लिए बैठा हूँ।


muḳhtasar ye hai hamari dastan-e-zindagi,
ek sukun-e-dil ki ḳhatir umr bhar tadpa kiye.

मुख़्तसर ये हैं हमारी दस्ताने ज़िन्दगी,
एक सुकुए दिल की ख़ातिर उम्र भर तड़पा किये। 


ujaale apni yaado ke hamare saath rahne do,
na jaane kis gali me zindag  ki shaam ho jaye.

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
ना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाये।


yu to marne ke liye zahr sabhi pite hai,
zindagi!!! tere liye zahr piya hai mai ne.

यूँ तो मरने के लिए ज़हर सभी पीते हैं,
ज़िन्दगी!!! तेरे लिए ज़हर पिया हैं मैं ने।


For more lovely Shayari Please follow
Click here to Follow 👇
Follow Mai Sadqay Tumhare on WordPress.com

Mai Sadqay tumhare.

Instagram
Facebook

Twitter


Leave a comment


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *